एसएमएफजी इंडिया क्रेडिट छठा वार्षिक पशु विकास दिवस आयोजित करेगा; महाराष्ट्र के 57 केंद्रों में 13,000 से अधिक मवेशियों का इलाज करने की तैयारी 

-10 फरवरी, 2024 को पशु विकास दिवस (पीवीडी) के छठे संस्करण का आयोजन करेंगे, जिसमें विशेषतया ग्रामीण भारत में डेयरी फार्मिंग में महिलाओं की भूमिका का सम्मान करने का उत्सव मनाया जाएगा।

15 राज्यों में 450 से अधिक स्थानों पर पशु शिविर आयोजित किए जाएंगे और एक ही दिन में 1 लाख से अधिक मवेशियों का इलाज करने का लक्ष्य रखा गया है।

एसएमएफजी इंडिया क्रेडिट के 4,000 से अधिक कर्मचारी देश भर में वार्षिक पशु विकास दिवस कार्यक्रम के लिए स्वेच्छा से भाग लेंगे

नागपूर :- भारत की अग्रणी एनबीएफसी में से एक, एसएमएफजी इंडिया क्रेडिट कंपनी लिमिटेड (पूर्व में फुलर्टन इंडिया क्रेडिट कंपनी लिमिटेड) अपने छठे पशु विकास दिवस (पीवीडी)को आयोजित करने की तैयारियों में है, जो देश में सबसे बड़ा एक दिवसीय पशु देखभाल शिविर है। एक लाख से अधिक मवेशियों को आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए ये शिविर 15 राज्यों में 450 से अधिक स्थानों पर एक साथ आयोजित किए जाएंगे।

महाराष्ट्र में, पशु विकास दिवस 57 स्थानों पर आयोजित किया जाएगा और 13,000 से अधिक मवेशियों को आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है। प्रत्येक शिविर में स्थानीय पशु चिकित्सकों द्वारा मवेशियों की मुफ्त जांच, मवेशियों के लिए मुफ्त दवा, टीकाकरण और दुधारू जानवरों की उत्पादकता बढ़ाने पर सलाह जैसी सेवाएं प्रदान की जाएंगी। पिछले साल, हमने महाराष्ट्र में 47 स्थानों पर शिविर आयोजित किए थे और 12,104 मवेशियों को आवश्यक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्रदान की थीं।

भारत में, 8 करोड़ से अधिक परिवार सीधे तौर पर डेयरी क्षेत्र से जुड़े हुए हैं और इनमें महिलाएं 70% कार्यबल का प्रतिनिधित्व करती हैं। इन महिलाओं की भूमिका के सम्मान के लिए, छठा पशु विकास दिवस ‘डेयरी फार्मिंग में महिलाएं’ के रूप में मनाया जाएगा। यह पहल ईएसजी ढांचे के ‘सामाजिक’ पहलू को दर्शाती है, जो सामाजिक उत्थान को आगे बढ़ाने में लैंगिक विविधता और समावेशन के महत्व पर जोर देती है।

कंपनी का विविध कार्यबल 600 कस्बों और 65,000 से अधिक गांवों में अखिल भारतीय ग्राहक आधार को पूरा करते हैं। कार्यबल का फोकस ऋण के माध्यम से सपनों को वित्तपोषित करके और ग्रामीण भारत को उन स्थानीय समुदायों में बेहतर आजीविका के लिए कौशल प्रदान करके एक समग्र समावेशी इको सिस्टम सुनिश्चित करने पर है, जहां वे काम करते हैं।

पशु विकास दिवस में देश भर के 4,000 से अधिक कर्मचारियों की सक्रिय भागीदारी भी देखी जाएगी, जो इस पहल के लिए स्वेच्छा से आगे आ रहे हैं। महाराष्ट्र में पीवीडी के दौरान 500 से अधिक कर्मचारी स्वेच्छा से भाग लेंगे, जो जमीनी स्तर पर सामुदायिक निर्माण के प्रति कंपनी की गहरी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

कंपनी की सामाजिक पहल के बारे में बोलते हुए एसएमएफजी इंडिया क्रेडिट के चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर और मैनेजिंग डायरेक्टर शांतनु मित्रा ने कहा, हमारे ग्रामीण ग्राहक आधार में 90% से अधिक महिलाएं हैं। हमारे बहुत से ग्राहक पशु खरीद के लिए ऋण लेते हैं, जो उनके लिए आय का एक बड़ा स्रोत है। हमारे सामुदायिक विकास कार्यक्रम एक परिवर्तन के रूप में कार्य करते हैं और ग्रामीण आजीविका के उत्थान, जीवन की समग्र गुणवत्ता को बढ़ाने और आय स्रोतों को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। जिन समुदायों की हम सेवा करते हैं उनके समग्र कल्याण हेतु पशुधन विकास के अलावा, हम कौशल विकास और वित्तीय साक्षरता को भी सक्रिय रूप से बढ़ावा देते हैं। एसएमएफजी इंडिया क्रेडिट में, हम सामाजिक-आर्थिक पहलों के माध्यम से वंचित समुदायों में सतत विकास को बढ़ावा देकर अपने ग्राहकों के साथ मजबूत संबंध स्थापित करने के लिए समर्पित हैं।’

पशु विकास दिवस पर टिप्पणी करते हुए एसएमएफजी गृहशक्ति के एमडी और सीईओ दीपक पाटकर ने कहा, ग्रामीण विकास की भावना के साथ एसएमएफजीगृहशक्ति मजबूत सामाजिक पहल को बढ़ावा देने वाली अपनी प्रतिबद्धता में अटूट हैं। ग्रामीण समुदायों को सशक्त बनाना और उन्हें संगठित क्षेत्र के करीब लाना हमेशा एसएमएफजी इंडिया क्रेडिट और एसएमएफजीगृहशक्ति का केंद्र बिंदु रहा है। अकेले महाराष्ट्र में पशु विकास दिवस पर हम 57 स्थानों पर पहुंचेंगे और 13,000 से अधिक मवेशियों को महत्वपूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करेंगे, जो डेयरी फार्मिंग क्षेत्र पर दीर्घकालिक और सार्थक प्रभाव डालने की हमारी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करेगा। यह व्यापक स्तर पर हमारे ग्राहकों के आर्थिक विकास को सुनिश्चित करने की दिशा में एक बड़ा कदम है।’

पशु विकास दिवस डेयरी फार्मिंग क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाने और सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए कंपनी के अटूट समर्पण का उदाहरण है। पिछले कुछ संस्करणों में, पीवीडी को भारत भर में आयोजित सबसे बड़े एकल दिवसीय पशु विकास दिवस के लिए 2015 लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में शामिल किया गया था। 2018 में बेस्ट ऑफ इंडिया रिकॉर्ड्स द्वारा विश्व के सबसे बड़े एकल दिवसीय पशु विकास दिवस के रूप में, और 2019 और 2023 में वर्ल्ड बुक्स ऑफ रिकॉर्ड्स द्वारा एकल दिवसीय पशु विकास दिवसके रूप में शामिल किया गया था।

हमारी कुछ अन्य प्रमुख सीएसआर पहल में से मोबाइल हेल्थ वैन (एमएचवी) एक प्रमुख कार्यक्रम है, हम देश भर में 17 एमएचवी संचालित करते हैं और 4 लाख से अधिक रोगियों को स्वास्थ्य सेवाएँ प्रदान कर चुके हैं। दूसरा, हमारा हमारा वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम सखी, ग्रामीण इलाकों में महिलाओं के लिए वित्तीय जागरूकता से समावेशन तक की यात्रा करने और उनके सामाजिक-आर्थिक सशक्तीकरण की ओर ले जाने वाले प्रमुख सीएसआर कार्यक्रमों में से एक है। अपने 5वें वर्ष में, सखी 5.0 छह राज्यों में 15 ग्रामशक्ति शाखाओं में चलाया जा रहा है और 150 से अधिक सखी मास्टर प्रशिक्षकों ने 60,000 से अधिक महिलाओं को प्रशिक्षित किया है।

NewsToday24x7

Next Post

रेती चोरी करणाऱ्या आरोपीस अटक, नागपूर ग्रामीण पोलीसाची कारवाई

Sat Feb 10 , 2024
भिवापूर :- पोलीस स्टेशन भिवापूर येथील स्टाफ पोलीस ठाणे भिवापूर हद्दीत पेट्रोलीग व वाहतुक केसेस करीत असता, दिनांक ०९/०२/२०२४ रोजी सकाळी ०५.३० वा. दरम्यान गोपनीय सुत्रधाराकडून माहीती मिळाली की, भिसी ते उमरेड रोडवर १० चक्का टिप्पर क्र. MH-49/AT-7375 मध्ये अवैधरित्या विनापरवाना रेती (वाळु) टिप्परमध्ये लोड करून वाहतुक करीत आहे. अशा खात्रीशीर वातमीवरून भिसी ते उमरेड रोडवर अवैध रेती वाहतूक संबंधाने […]

You May Like

Latest News

The Latest News

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com