सावनेर में शराब का खुलेआम चल रहा काला कारोबार ; वर्षभर में करोड़ो रुपये की तस्करी…
— उत्पादन शुल्क मंत्री शंभूराज देसाई एवं नागपुर के उत्पादन शुल्क अधीक्षक को चुली चुनोती दे रहे शराब तस्कर.. 
नागपुर में चल रहे अधिवेशन के बावजुद सावनेर के वाईन शॉप से रोजाना लाखों रूपये की शराब की अवैध तरीके से शराब तस्करी जोरों पर…
 — शासन द्वारा बनाए गए दुकान खोलने व बंद करने के नियमों का भी हो रहा उल्लंघन..
नागपुर/ सावनेर  – इन दिनों सावनेर में अवैध शराब का कारोबार खूब फल-फूल रहा है , जगह-जगह खुली कुछ अंग्रेजी शराब (बार ) और वाईन शॉप की दुकानों से सावनेर तालुका के ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध तरीके से शराब पहुंचाई जा रही है । शराब माफिया सावनेर शहर को अपना  तस्करी का अड्डा बना लिए है ,यहाँ से रोजाना वाईन शॉप के माध्यम हर दिन लाखों के शराब की तस्करी की जार रही है। सावनेर शहर से हर  गांव-गांव में अवैध तरीके से शराब पहुंचाई जा रही है, जिससे सामाजिक वातावरण एवं ग्रामीण क्षेत्र का शांत वातावरण खराब हो रहा है तो वहीं युवा भी नशे का आदी होता जा रहा है. .

 सावनेर क्षेत्र में इन दिनों आबकारी विभाग की मिलीभगत और पुलिस प्रशासन की अनदेखी के कारण अवैध शराब तस्करी का कारोबार अच्छा खासा फल-फूल रहा है। जगह-जगह खुलेआम अवैध रूप बिक रही शराब के कारोबार को देखकर तो यही लगता है कि आबकारी विभाग ने शराब ठेकेदार को अवैध तरीके से शराब तस्करी करवाने की खुली छूट दे रखी है?

सावनेर में विवादास्पद शराब माफिया के लिए एक जगह से दूसरी जगह वाईन शॉप से अवैध तरीके से शराब पहुंचाने का कम इन दिनों जोरो पर है । सावनेर के मुख्य रूप से 7-8 रास्तों से रोजाना भारी मात्रा में वाईन शॉप से देशी विदेशी शराब की तस्करी बेखोफ जारी है । शराब दुकान से डायरियों के माध्यम से ठेकेदार के लोग खुलेआम अवैध शराब अड्डों तक शराब पहुंचा रहे हैं। जबकि शासन ने इन्हे सिर्फ तय दुकानों से शराब बेचने का लायसेंस दिया है। आबकारी विभाग की मिलीभगत एवं पुलिस प्रशासन की अनदेखी के कारण हर तरफ अवैध शराब विक्रय का कारोबार दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है?

ऐसे जगह-जगह आसानी से उपलब्ध होने वाली शराब के कारण कई घर बर्बाद हो चुके है। तो वहीं युवा वर्ग जो कल का भविष्य है उनपर भी बुरा असर पड़ रहा है। आबकारी विभाग की मिलीभगत और पुलिस प्रशासन की अनदेखी के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में भी शराब माफियाओं का आतंक मचा हुआ है। जिसके बाद भी अवैध शराब माफियाओं पर कार्रवाई नहीं होना तो यही दर्शाता है कि इन जिम्मेदारों और शराब माफियाओं के बीच में तगड़ी सांठगांठ है? जिसके कारण ही हर तरफ अवैध शराब बेची जा रही है।

दिन हो या रात इन अवैध शराब अड्डों पर हर समय आसानी से शराब मिल जाती है तो कई ढाबों पर भी अवैध शराब परोसी जा रही है। लेकिन अवैध आर्थिक कमाई की वजह से कोई भी अधिकारी कार्रवाई करने कि हिम्मत नहीं कर पा रहे है। सूत्रों की माने तो यदा-कदा छापेमारी कर कुछ छोटी मोटी जब्ती दिखाकर अपनी जिम्मेदारी दर्शा देते हैं। शराब के बड़े माफिया, तस्करों की ओर ये शायद ही कभी नजर फेरते हों। कहीं से इन तस्करों की शराब के अवैध कारोबार की सूचना मिल भी जाए तो भी ये बचने की ही कोशिश करते नजर आते हैं। यहां तक कि जो इन शराब माफियाओं के खिलाफ आवाज उठाते हैं उन्हें भी इन शराब माफियाओं द्वारा दबाने का प्रयास किया जाता है।

@फाइल फोटो

Email Us for News or Artical - [email protected]
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com