वोक्हार्ट हॉस्पिटल में 17 वर्षीय लड़के के एक्सीडेंट के बाद स्कारलेस ब्रेन सर्जरी की गई

नागपुर :- वोक्हार्ट हॉस्पिटल्स नागपुर देखभाल और नवीनता की परंपरा वाला एक अग्रणी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता है जो इस हॉस्पिटल को मध्य भारत के मरीजों के लिए वरदान बनाता है। क्रिटिकल मरीजों का इलाज करने वाले वोक्हार्ट हॉस्पिटल्स नागपुर ने 17 वर्षीय लड़के की स्कार्लेस ब्रेन सर्जरी सफलतापूर्वक की। वोक्हार्ट हॉस्पिटल, नागपुर मिनिमली इनवेसिव न्यूरोसर्जरी की ओर आगे बढ़ रहा है जो सबसे कुशल प्रक्रियाओं में से एक है।

नागपुर के एक प्राइम लोकेशन पर, देर रात सड़क पार करते समय एक कार की टक्कर से एक 17 वर्षीय लड़के के सिर में गंभीर चोटें आईं और सिर से काफी खून बहने लगा। जब वोक्हार्ट हॉस्पिटल्स-नागपुर के डॉ. राहुल झामड़, कन्सल्टंट, न्यूरोसर्जरी (ब्रेन और स्पाइन सर्जन) ने उसका मूल्यांकन किया, तो उन्होंने देखा कि उसकी संवेदनाएं बदल गई थीं और वह बहुत चिड़चिड़ा हो गया था। मरीज के मस्तिष्क का तत्काल सीटी स्कैन किया गया, जिस से पता चला कि आंख के ठीक ऊपर मस्तिष्क के दोनों तरफ बाईं ओर की तुलना में दाईं ओर बहुत ज्यादा रक्तस्राव हो रहा था।

डॉ. राहुल झामड़, कन्सल्टंट – न्यूरोसर्जरी (ब्रेन और स्पाइन सर्जन), वोक्हार्ट हॉस्पिटल्स नागपुर ने कहा कि, हमने रिश्तेदारों की काउंसलिंग की और उन्हें स्थिति की गंभीरता और सर्जिकल हस्तक्षेप की आवश्यकता के बारे में बताया। क्योंकि यह एक जीवन बचाने वाली सर्जरी थी, जिससे रक्तस्राव कम होकर इसके शुरुआती परिणाम जल्द ही दिखाई देने वाले थे। चूँकि मरीज़ एक युवा लड़का था और हम मस्तिष्क में बड़े चीरे लगाने से बचना चाहते थे, इसलिए हमने रक्तस्राव को कम करने मिनिमली इनवेसिव न्यूरोसर्जरी के बारे में समझाया और यह भी बताया गया कि जरूरत पड़ने पर बड़ी सर्जरी करनी पड़ेगी, जिस पर परिवार वाले सहमत हो गये। हमने दाहिनी आंख की भौंह के ऊपर एक छोटा सा चीरा लगाया और आंख के ऊपर की हड्डी का एक छोटासा हिस्सा निकाला, जिसके बाद खून निकाला गया। खून निकालने के बाद मस्तिष्क को आराम मिला और उसकी धड़कन सामान्य हो गई। चीरे को बंद करते समय इस बात का सावधानीपूर्वक ध्यान रखा गया कि मस्तिष्क के अंदर और रक्तस्राव न हो। लड़के को 2 से 3 दिन तक आईसीयू में रखा गया और फिर छुट्टी देने से पहले 3 दिन तक वार्ड में रखा गया। कुछ दिनों बाद, जब लड़का फॉलो-अप के लिए आया, तो उसकी दाहिनी आंख और दृष्टि की समस्याएं और उसका चिड़चिड़ापन मानो कम हो गया था जो स्वीकार्य था।

डॉ. राहुल झामड़ ने आगे कहा, ‘मानव मस्तिष्क के कई प्रकार की बीमारियों के लिए अब मिनिमली इनवेसिव ब्रेन सर्जरी संभव है। मिनिमली इनवेसिव ब्रेन सर्जरी के साथ, यह प्रक्रिया आसपास के ऊतकों को कम नुकसान पहुंचाकर किसी बीमारी को सटीक और सुरक्षित रूप से हटाने या उसका इलाज करने का प्रयास करती है। इनमें से कई सर्जरी एक छोटी क्रैनियोटॉमी प्रक्रिया के माध्यम से की जा सकती हैं जिसमें मस्तिष्क का एक हिस्सा नाक के माध्यम से खोला जाता है। ”

हालाँकि मस्तिष्क की कोई भी सर्जरी नाजुक होती है, मिनिमली इनवेसिव सर्जरी से मरीज में मस्तिष्क संबंधी जटिलताओं के विकसित होने की संभावना कम हो जाती है। यह सर्जरी तकनीकी रूप से कठिन होती हैं और मस्तिष्क को प्रभावित करने वाले सभी प्रकार के ट्यूमर या अन्य बीमारियों के लिए उपयुक्त नहीं हैं। इस मरीज में चूंकि अधिकांश रक्तस्राव मस्तिष्क के एक तरफ से हो रहा था, इसलिए हमें मिनिमली इनवेसिव सर्जरी का विकल्प चुनना पड़ा। जिससे खोपड़ी में बड़ा चीरा लगने से बच सके और मरीज़ के जल्दी ठीक होने के बहुत अच्छे परिणाम सामने आए।

कई अन्य प्रकार की सर्जरी की तरह, मिनिमली इनवेसिव ब्रेन सर्जरी सफल होने के लिए सबसे छोटे चीरे के साथ मरीज का इलाज करने की कोशिश की जाती है। वोक्हार्ट हॉस्पिटल नागपुर में, हम मरीज की सावधानीपूर्वक निगरानी के साथ गहरे ब्रेन ट्यूमर, अरचनोइड सिस्ट या कोलाइड सिस्ट जैसे सिस्टिक घाव, पोस्ट-ट्रॉमेटिक या अन्य इंट्राक्रैनियल हेमटॉमस को हटाने जैसी समस्याओं के लिए माइक्रोस्कोपिक और एंडोस्कोपिक मिनिमली इनवेसिव ब्रेन सर्जरी करते हैं।

अभिनंदन दस्तेनवार, सेंटर हेड वोक्हार्ट हॉस्पिटल्स, नागपुर ने कहा, “वोक्हार्ट हॉस्पिटल्स नागपुर के पास एक्सपर्ट और विशेषज्ञ डॉक्टरों की ऐसी टीम होने पर हमें बहुत गर्व है। हम पूरे समर्पण के साथ आम आदमी की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।”

Contact us for news or articles - dineshdamahe86@gmail.com

NewsToday24x7

Next Post

उष्माघात प्रतिबंधक उपाययोजनांचा आयुक्तांनी घेतला आढावा

Thu Mar 14 , 2024
– विभागांद्वारे करण्यात येणा-या कार्यवाहीचा अहवाल सादर करण्याचे निर्देश नागपूर :- नागपूर महानगरपालिका मुख्यालयात मनपा आयुक्त तथा प्रशासक डॉ. अभिजीत चौधरी यांनी उष्माघात प्रतिबंध व नियंत्रण उपाययोजनेचा कृती आराखडा नियोजनाबाबत आढावा घेतला. मनपा मुख्यालयात कार्यकारी समितीची बुधवारी (ता.१३) बैठक पार पडली. आयुक्त सभाकक्षामध्ये झालेल्या बैठकीत समितीचे अध्यक्ष मनपा आयुक्त तथा प्रशासक डॉ. अभिजीत चौधरी, अतिरिक्त आयुक्त आंचल गोयल, मुख्य अभियंता  […]

You May Like

Latest News

The Latest News

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Verified by MonsterInsights