अमृत काल का दूसरा बजट – विश्वास का बजट

नागपूर :- अमृत काल का दूसरा बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का मोदी सरकार के सर्वांगीण सर्वस्पर्शी व सर्वसमावेशी विकसित भारत 2047 की संकल्पना सिद्धि की ओर एक और कदम है .

अंतरिम बजट में टैक्स रेट्स में कोई भी बदलाव न करना अच्छा है, जुलाई २०२४ में आने वाले पूर्ण बजट में टैक्स का भार कम होने की अपेक्षा है .

11.1 लाख करोड़ का पूंजीगत व्यय अर्थव्यवस्था के पहियों को गतिमान रखेगा, वित्तीय घाटे को 5.1 % तक सीमित रखना भी बहुत अच्छा कदम है इससे वित्तीय वर्ष 2026 में वित्तीय घाटे के 4% पर पहुंचने का अनुमान शेयर बाजार को भा रहा है .

सरकारी बैंक, डिफेन्स, इंफ्रास्ट्रक्चर, कैपिटल गुड के क्षेत्र के लिए बजट फायदेमंद है .

प्रतीक प्रमोद बागड़ी

शेयर्स ब्रोकर, वित्तीय सलाहकार.बागड़ी वेल्थ.

NewsToday24x7

Next Post

अंतिम बजट में भी समर्थन मूल्य की गारंटी नहीं, किसान सभा चलाएगी 'भाजपा को वोट नहीं' अभियान

Sun Feb 4 , 2024
रायपुर :- अखिल भारतीय किसान सभा से संबद्ध छत्तीसगढ़ किसान सभा ने आज मोदी सरकार द्वारा पेश अंतरिम बजट की दिशा को कॉर्पोरेटपरस्त करार देते हुए किसान विरोधी बताया है। किसान सभा ने कहा है कि किसानों की आय बढ़ाने, समर्थन मूल्य में वृद्धि करने और रोजगार सृजन की जुमलेबाजी के बाद भी हकीकत यही है कि सभी फसलों के […]

You May Like

Latest News

The Latest News

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com