वारकारी प्रशिक्षण संस्कार शिविर का समापन समारोह संपन्न 

वाडी :- श्री संत गजानन महाराज मंदिर देवस्थान गजानन सोसायटी दत्तवाडी इनके सहयोग से रुक्मिणी प्राणसंजीवन वारकरी सेवा संस्था नागपुर के समिति के अन्तर्गत पदाधिकारियों की प्रमुख उपस्थिति में इस शिबिर का आयोजन किया गया था। दिनांक ७ मई २०२३ से ४ जुन २०२३ तक विगत ३० दिनों से श्री संत गजानन महाराज मंदीर गजानन नगर सोसायटी के परिसर पर वारकरी संस्कार शिविर के कार्यकम का आयोजन संपन्न हुवा यह वारकरी प्रशिक्षण शिबिर का आयोजन हर साल गजानन महाराज मंदिर देवस्थान दत्तवाडी मे विगत १२वर्षो से निरंतर चलते आ रहा है। शिविर का शुभारंभ ७ मई से हुआ था । संस्कार शिविर मे वारकरी विचार धारा के अनुसार महापुरुषों संतों के विचारो पर मार्गदर्शन किया गया। 30 दिन के इस शिविर में वारकरी विचार धारा अनुसार संत विचार ,नशा मुक्त सर्व धर्म संमभाव परोपकार संस्कृति राष्ट्रीय एकात्मकता आदि विषयों के अलावा काकडा, गीता ज्ञानेश्वरी श्रवन,पठन, हरिपाठ,अभंग , गायन ,मृदुंग वादन,योगा, शारिरीक,बौद्धिक का भी प्रशिक्षण इस शिबिर मे दिया गया। शिविर में 10 से 20 वर्ष आयु वर्ग के युवाओं ,युवतिया कुल 134 विध्यार्थी इस शिविर में प्रवेश लेकर अपने भारतीय आध्यात्मिक धार्मिक संस्कार शिक्षा प्राप्त कर रहे थे ईन्हे विशेष शिक्षको, विशारद, मार्गदर्शको द्वारा मार्ग दर्शन ,प्रशिक्षण दिया जा रहा था। जिसका समारोप दिनांक ४ जुन रविवार को गोपाल काला कीर्तन ह• भ•प•प•कोठे महाराज हिंगणा इनके कीर्तन द्वारा किया गया, त्तपश्यात संस्कार शिबिर मे प्रवेश लिये गये सभी विद्यार्थियो के परीक्षा परिणाम सुनाकर प्रथम,द्वितीय, तृतीय आने वाले परीक्षार्थियो को विशेष पुरुस्कार, सभी को भेट वस्तु एवं प्रमाण पत्र वितरित किये गये ।

मृदूंगाचार्य जीतू महाराज पराये, गायनाचार्य मुकुंद महाराज धोटे साथ संगत अजय महाराज सोनवाने, टालकरी,रविन्द्र राऊत (अध्यक्ष),दिपक गुरवे (उपाध्यक्ष) प्रदीप इंगले (सचिव) , प्रशांत धर्मपुरीकर शिबिर प्रमुख (कोषाध्यक्ष), श्रीरंग काकडे,शुभम खडसे ,प्रफुल भांडवलकर ,सुनील चवडे,गजानण चौधरी इन्होंने इस शिबिर को यशस्वी बनाने हेतू अथक परिश्रम लिया ।

Contact us for news or articles - dineshdamahe86@gmail.com

NewsToday24x7

Next Post

शिवशक्ती आखाडा आणि इन्टॅक्ट नागपूर चॅप्टर ऐतिहासिक हॅरिटेज वॉल्कच्या भेटीला उत्साहपूर्ण प्रतिसाद

Tue Jun 6 , 2023
– 50 लोकांनी घेतला सहभाग  नागपुर :- विदर्भात पिढ्यानपिढ्या याच नावाने ओळखले जाणारे नागपुर विधानसभेसमोरील हे ऐतिहासिक मध्यवर्ती संग्रहालय. Central Museum of NAGPUR अशी सरकारदप्तरी जरी नोंद असली तरी ऑटोरिक्षावाल्याला पत्ता सांगायचे असेल तर अजब बंगलाच म्हणावे लागेल. इसवी सन १८६३ रोजी हे ऐतिहासिक मध्यवर्ती संग्रहालय तत्कालीन मध्य प्रांत आणि वऱ्हाड( सी पी एन्ड बेरार) राज्यात स्थापन करण्यात आले. या […]

You May Like

Latest News

The Latest News

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com