खापरखेडा पावर प्लांट में 8 करोड की निविदा घोटाला की जांच की मांग।

भ्रष्टाचार खिलाफ उच्च न्यायालय मे जनहित याचिका दायर करने की चेतावनी

नागपुर :- महानिर्मिती कंपनी अंतर्गत खापरखेडा के 210 ×2 मेगावाट थर्मल पावर स्टेशन के एश हैंडलिंग प्लांट मे वार्षिक ठेका कार्यों की गोलमाल निविदा नियम शर्त प्रपत्र तैयार करने मे नायाब तरीका अपनाया गया है। हाल ही नागपुर के शीतकालीन विधान मंडल अधिवेशन मे मुख्यमंत्री ,उपमुख्य मंत्री और प्रथान ऊर्जा सचिव को सौंपे गए ज्ञापन मे स्पष्ट हुआ है कि खापरखेडा के तत्कालीन मुख्य अभियंता राजू घुगे ने अपने मित्र की कंस्ट्रक्शन कंपनी के हक मे ई-निविदा ठेका पास करवाने की दृष्टी निविदा मे नियम और शर्तें तैयार करवाया। जिसमे दूसरी अनुभव कुशल स्थानीय फर्म उक्त निविदा ठेका हांसिल नही कर पाएगी?

सामाजिक कार्यकर्ता हनीफ़ राहत द्धारा प्रस्तुत ज्ञापन मे बताया है कि उक्त ई -निविदा ठेका की कीमत करीबन रुपए 8 करोड आंकी गई है। इस ई -निविदा का नंबर 3000034080, दिनांक 02 जनवरी 2023 है। उक्त निविदा ठेका कार्यों में “एनीवल वर्क कॉन्ट्रैक्ट फार वर्क्स आफ आपरेशन-मैंन्टनेंश आफ ESP वाटम एश डिस्चार्ज लाईन सायलो HCSD सिस्टम एण्ड अदर इंस्टाल आगझेलेरी 8 एस हैंडलिंग प्लांट एक्सक्लोडिंग OEM स्पेयर एण्ड एम एस पाईप खापरखेडा यूनिट क्रं 3 एवं 4 के नाम पर ठेका कार्य दर्शाया है। जबकि उपरोक्त कार्यों की निविदा पहले आमंत्रित की जा चुकी है।

घोटालेबाज मुख्य अभियंता का ट्रांस्फर संदेहास्पद?

विशेष उल्लेखनीय है कि इस घोटाला की कार्यवाई से बचने के लिए मुख्य अभियंता घुगे महोदय ने महानिर्मिती के अन्य विभाग मे अपना ताबादला करवा लिया है। ताकि निविदाएं के संभावित विवाद और झंझटों से मुक्ति पाया जा सके। शिकायत मे यह भी स्पष्ट किया गया है कि उक्त ई-निविदा ठेका कार्यों से स्थानीय खापरखेडा के अनेक अनुभव कुशल ठेकेदार हाथ मलते पश्चाताप करते रह जाएंगे।

जबकि उक्त एश हैंडलिंग प्लांट मे वार्षिक आपरेशन एवं मेंटनैंश कार्यों के दो ई-टेंडर पहले ही जारी किये जा चुके है जिसकी ई – निविदाएं क्रमांक 3000033642 दिनांक: 08 दिसंबर 2022 तथा ई -निविदा क्रमांकः 3000033447 दिनांक: 21दिसंबर 2022 का समावेश है। शिकायत के मुताबिक जब उपरोक्त ठेका कार्यों की दो निविदाएं पहले ही आमंत्रण किया जा चुका है फिर उसी प्रकार के कार्यों की दो मर्तबा निविदा जारी करने की क्या आवश्यकता है। इस षडयंत्रकारी प्रचण्ड भ्रष्टाचार को लेकर महानिर्मिती के समक्ष एक बदनुमा दाग माना जाएगा।

शिकायत मे मांग की गई है कि उपरोक्त 8 करोड की निविदा क्रं:3000034080 को तत्काल प्रभाव से निरस्त की जाए? अन्यथा उक्त घोटाला प्रकरण के खिलाफ उच्च न्यायालय की नागपुर खंडपीठ मे जनहित याचिका दायर की जाएगी। यह जानकारी सामाजिक कार्यकर्ता हनीफ राहत ने विज्ञप्ति मे दी।

Email Us for News or Artical - [email protected]
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com