मुख्याधिकारी मेंढे के खिलाफ उपमुख्यमंत्री को शिकायत.

संवाददाता हिंगना

वानाडोगरी नप में ग्रीन बेल्ट पर ले आऊट मंजुर करने का मामला

उपमुख्यमंत्री ने दिए जांच कर कारवाई के आदेश..

हिंगना – वानाडोगरी नगर परिषद में तत्कालीन मुख्याधिकारी अर्चना मेंढे ने नियम बाह्य तरीके से ग्रीन बेल्ट की खेती उपयोगी जमीन पर निवासी ले आऊट का नकाशा मंजुर कर पद का दुरुपयो किया है। इस मामले की जांच कर तत्काल दोषी अधिकारी को निलंबित करने की मांग को लेकर भाजपा युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष आदर्श पटले ने उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को शिकायत की है। इस मामले में उपमुख्यमंत्री फडणवीस ने संबधित विभाग को जांच कर कारवाई के आदेश दिए हैं।

बता दें कि वानाडोगरी नप में मुख्याधिकारी मेंढे यह 9 सितंबर 2021 से लेकर 5 सितंबर 2022 तक कार्यरत थी। इस दौरान मौजा वानाडोगरी के खसरा नंबर 25/1, 25/2, 23, 27, 38, 39, 40, 41, 42, 43/1 इस खेती उपयोगी ग्रीन बेल्ट जमीन पर ले आऊट नकाशा मंजूर किया है? नियम के अनुसार सिर्फ येलो बेल्ट पर ही ले आऊट नकाशा मंजूरी करने का अधिकार है। नियम के विपरित व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए मुख्याधिकारी द्वारा ले आऊट मंजूर किए जाने का आरोप शिकायतकर्ता आर्दश पटले ने लगाया है। साथ ही कहा है कि वर्ष 2016 में वानाडोगरी नगर परिषद की स्थापना हुई है। अब तक डी पी प्लान मंजूर नहीं होने की वजह से नागरिकों के लिए क्षेत्र में विविध सुख सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जगह आरक्षित नही की गई है। क्षेत्र में नियम बाह्य तरीके से ले आऊट को मंजूर करने से जगह ही नहीं बचेंगी। इसलिए इस मामले की जांच कर दोषी मुख्याधिकारी पर निलंबन की करवाई किए जाने की मांग की है।

तुमसर नप का भी है मामला..!

मुख्याधिकारी अर्चना मेंढे वानाडोगरी नगर परिषद में आने से पहले वर्ष 2020 में तुमसर नगर परिषद में कार्यरत थी। तुमसर नप के नगराध्यक्ष ने मुख्याधिकारी द्वारा पद का दुरुपयोग कर कार्य किए जानें की शिकायत की थी। शिकायत के तहत जिलाधिकारी ने विभागीय अधिकारी की अध्यक्षता में समिती गठित की थी। 6 अधिकारियो की समिती ने विविध मामलो की जांच कर अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपा थी। जिसमे कुछ मामलो मे मुख्याधिकारी द्वारा पद का दुरुपयोग किए जाने की बात साबित होती है। भंडारा जिले के जिलाधिकारी द्वारा 25 जून 2020 को नगर विकास विभाग 2 मुंबई के प्रधान सचिव को जांच रिपोर्ट भेजने के बाद भी 2 वर्षो से करवाईं नही की गई है। जिसने चलते अधिकारियो को वरिष्ठ अधिकारी द्वारा सय्योग किए जानें की चर्चा जोरों पर है।

दो साल से करवाईं ठंडे बस्ते में..!

भंडारा जिले के तुमसर नगर परिषद में कार्यरत मुख्याधिकारी के खिलाफ हुई शिकायत की जांच में भंडारा जिले के 6 वरिष्ट अधिकारी शमिल थे। इस समिति की अध्यक्ष उपविभागीय अधिकारी, सचिव जिला प्रशासन अधिकारी, सदस्य सहाय्यक आयुक्त समाजकल्याण विभाग, सहायक संचालक नगर रचनाकार, उप विभागीय अधिकारी सार्वजनिक निर्माण विभाग और वरिष्ठ लेखा परीक्षक स्थानिक निधी लेखा परीक्षा विभाग के आला अधिकारि का समावेश था। इनके द्वारा जांच कर रिपोर्ट भेजने के बाद भी 2 वर्षो से अब तक करवाई नहीं हुई यह समझ से परे है।

Email Us for News or Artical - [email protected]
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com