27 लाख की ई-रिक्शा कचरा गाडी गई कचरे में   

कन्हान :- नगर परिषद कन्हान घोटालों को लेकर जहां अपने नित नए अविष्कार करती रहती हैं,वहीं पर कन्हान नप के नगरसेवकों एवं नप अध्यक्ष के द्वारा कचरा संकलन के लिए 27 लाख 75 हजार रूपए में खरीदी किए गए ई-रिक्शा घोटाले की नई कहानी बया करने लगे हैं,क्योंकी 27 लाख 75 हजार के ई-रिक्शा के द्वारा कभी कचरा ढोया ही नहीं गया हैं.

कन्हान नप के द्वारा कन्हान के नागरिकों को बेहतर सुविधा देने तथा कन्हान को कचरा मुक्त करने के उद्देश से ई-रिक्शा खरीदी करने का निर्णय लिया गया.इस आशय को लेकर जीईएम पोर्टल में दिनांक 22 जून 2022 से लेकर 2 जुलाई 2022 तक निविदा मंगाई गई थी.इस निविदा को लेकर कुल 4 ठेकेदारों के द्वारा निविदा भरी गई,तथा 2 जुलाई 2022 को खोली गई,तथा 4 जुलाई को निविदा धारक के वित्तीय बोली के लिफाफे खोलने के बाद मेघदूत इंटरप्राईजेस को टेंडर आवंटित कर दिया गया.ज्ञात हो की ई-रिक्शा क्रय करने को लेकर सभा में सुचक के रूप में भाजपा के नगरसेवक राजेंद्र शेंद्रे एवं अनुमोदन भाजपा की नगरसेविका वर्षा लोढे ने किया था.निविदा के अनुसार मेंघदूत इंटरप्राईजेस भंडारा के द्वारा कुल 6 ई-रिक्शा की बोली 30 लाख 6 हजार रूपए रखी गई थी.इसके बाद नप के शासन प्रशासन के द्वारा इस राशि को लेकर मोलभाव किया गया,जिसके बाद मेंघदूत इंटरप्राईजेस भंडारा के द्वारा सभी 6 ई-रिक्शा कन्हान नप को सौंप दिए गए.कन्हान नप में ई-रिक्शा आने के बाद कन्हान के नागरिकों एवं नगरसेवकों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. ई-रिक्शा आने के बाद जैसे ही पहले दिन ई-रिक्शा कचरा संकलन करने गया,उसी दिन ई-रिक्शा ने भ्रष्टाचार की पोल खोल दी.इसके बाद से सभी 6 ई-रिक्शा कन्हान नप की नई इमारत में ताले के भीतर बंद करके रखे गए हैं.इस प्रकरण में सबसे बडा अहम सवाल यह उठता हैं,कि कन्हान नप के घोटालों की लिष्ट में कचरा ही प्रमुख रहा हैं,तथा कचरा प्रोसेसिंग युनिट जो की गाडेघाट रोड पर स्थित हैं,तथा उसमें कितनी प्रोसेसिंग हो रही हैं,यह कन्हान नप के सभी 16 नगरसेवक एवं अध्यक्ष सहित सीओं भी आसानी से देख सकते हैं.इस संदर्भ में ध्यान देने योग्य तथ्य यह हैं,कि इस ई-रिक्शा को लेकर विरोधी पक्ष के कुछ नगरसेवकों के द्वारा विरोध भी किया गया,परंतु भाजपा- शिंदे-कांग्रेस के नगरसेवकों के आगे किसी भी विपक्ष के नगरसेवक की एक ना चली,और मेंघदूत इंटरप्राईजेस भंडारा को बिल का भुगतान भी कर दिया,जबकि मेंघदूत इंटरप्राईजेस के द्वारा आपुर्ती किए गए ई-रिक्शा सेंट्रल जेल के कैदी के समान कन्हान नप की नई इमारत अपनी सजा काट रहें हैं.

@ फाईल फोटो

Contact us for news or articles - dineshdamahe86@gmail.com

NewsToday24x7

Next Post

प्रतिक्षा संपली; 'हा' प्रकल्प 28 वर्षांनी पूर्णत्वाकडे

Thu Feb 16 , 2023
बुलढाणा : जिल्ह्याच्या नांदुरा (Nandura) तालुक्यातील जिगाव गावाजवळ 1994-95 मध्ये पूर्णा नदीवर मागील 28 वर्षापासून सुरू जिगाव प्रकल्प (Jigaon Dam Project) येत्या दोन वर्षांत पूर्णत्वास येणार असल्याचा दावा संबंधित अधिकाऱ्यांनी केला आहे. तरी सुद्धा बहुप्रतीक्षित जिगाव प्रकल्प कधी पूर्ण होईल हे प्रकाल्पचे काम झाल्यावरच समोर येईल. विदर्भ पाटबंधारे विकास महामंडळ, नागपूर यांच्या अंतर्गत या प्रकाल्पचे काम सुरू आहे. तापी खोऱ्याच्या […]

You May Like

Latest News

The Latest News

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com